Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2021 · 1 min read

बलिदान

मातृ भूमि के वास्ते , हो जाऊँ कुर्बान।
कफन तिरंगा से बने, इतनी-सी अरमान।। १

जो करते हैं देश हित, सुख सुविधा बलिदान।
ऐसे वीर जवान से, भारत बना महान।। २

हर कठिनाई रौंद कर,रखें देश की शान।
धर्म न्याय औ” देश हित,हो जाते बलिदान।। ३

साहस निष्ठा वीरता,वीरों की पहचान।
मातृभूमि के वास्ते, हो जाते बलिदान।। ४

माँ ममता औ” जान जो, दोनों करते कुर्बान।
ऐसे वीर जवान से, बनता देश महान।।५

व्यर्थ नहीं जाता कभी,वीरों का बलिदान।
करता है इतिहास युग,सदा इन्हें सम्मान।। ६

राजगुरु सुुखदेव भगत,तीनों वीर महान।
हँस-हँस कर फाँसी चढ़े,देशभक्त बलिदान।।७

रक्त कणों से लिख दिया, मेरा देश महान।
भूले से भूले नहीं,हम उनका बलिदान।। ८

कतरा-कतरा खून का,कर देतें बलिदान।
भरा हुआ है देश में, ऐसे वीर जवान।।९

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
Dr.Khedu Bharti
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
........,
........,
शेखर सिंह
"कइयों को जिसकी शक़्ल में,
*Author प्रणय प्रभात*
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Kumar lalit
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
Arvind trivedi
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...