Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।

बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो,
तपिश सूरज की यादों में आ, सहलाती है कैसे।
अँधेरी रातों में स्तब्ध आसमां की चीख़ों को सुनो,
टूटते तारे की जुदाईयाँ, उसे तड़पाती हैं कैसे।
पर्वतों की गोद में रिसती, जलधाराओं से पूछो,
नदी बनकर वो किनारों से, छिलती जाती है कैसे।
ठहरे समंदर में सफर करती, लहरों की सुनो,
चाहतें साहिलों की उसे, मौत में मिलाती हैं कैसे।
रूखे पतझड़ों में सिहरते, दरख़्तों से पूछो,
गिरते पत्तों की मजबूरियाँ उसे, रुलाती हैं कैसे।
सावन में आँखों से बरसती, बारिशों की सुनो,
जख्मी यादों की सरगोशियां, उसे जलाती हैं कैसे।
बेजान दिलों में दहकते, सोये अरमानों से पूछो,
ये ज़्यादतियां लक़ीरों की, हमें हमसे चुराती हैं कैसे।

2 Likes · 2 Comments · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मेरा भारत जिंदाबाद
मेरा भारत जिंदाबाद
Satish Srijan
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
My Guardian Angel!
My Guardian Angel!
R. H. SRIDEVI
साधना
साधना
Vandna Thakur
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
"जलती आग"
Dr. Kishan tandon kranti
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
दोहा
दोहा
sushil sarna
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
पूर्वार्थ
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*प्रणय प्रभात*
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Shaily
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
3034.*पूर्णिका*
3034.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...