Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 29, 2017 · 1 min read

बरसों मीनाकारी की

वक़्त ने इंसानों के हक़ में , ये कैसी ग़द्दारी की
सादालौही सीख रही है, कुछ बातें अय्यारी की

बाज़ारों तक आते – आते ज़ंग लगा बेकार हुआ
हमने लोहे के टुकड़े पर, बरसों मीनाकारी की

पिंजरे से टकरा – टकराकर मेरे पर बेशक टूटे
लेकिन नींद हराम हुई है, रातों एक शिकारी की

यूँ ख़्वाबों के उजले चहरे, गहरी तकलीफें देंगे
हार से भी बदतर होती है, जैसे जीत जुआरी की

उम्र के घटते – घटते हमने, सौ सामान बढ़ाए हैं
दुनिया से रुख़्सत होने की, लेकिन क्या तैय्यारी की ?

जलकर खाकिस्तर होने तक, फूलों ने झेली हंस कर
बिजली ने मेरे गुलशन पर, जितनी शौलाबारी की

अपनी ही कमियों ने हमको, तोड़-तोड़ खाया ‘परवाज़’
लोगों का क्या है ! लोगों ने, पूरी खातिरदारी की

1 Like · 1 Comment · 908 Views
You may also like:
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाबू जी
Anoop Sonsi
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
तितली रानी (बाल कविता)
अनामिका सिंह
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी बेटी
अनामिका सिंह
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
अनामिका सिंह
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
अनामिका सिंह
सीख
Pakhi Jain
Loading...