Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2021 · 1 min read

बरसात।

अब तो मेघ करो बौछार।
झुलस गये तृण-पात, विकल जन
नदी, सरोवर , तप्त निखिल वन,
व्यग्र कृषक- मन नित्य पुकारे
बरस मेघ, हर तम, अंगारे।
हरित, तृप्त कर दे संसार
अब तो मेघ करो बौछार।

ह्रदय – ह्रदय में व्याप्त सघन – डर
तृषित, क्षुधित जग आकुल, जर्जर,
विस्फारित दृग गगन निहारे
सलिल अमित ले मेघा आ रे।
सर, सरिता भर और कछार
अब तो मेघ करो बौछार।

जलद , मरुत संग जल भर लाना
नीर अपरिमित फिर बरसाना,
हर दिश मंजुल, तृप्त धरा हो
कुसुम सुरस मकरंद भरा हो।
धरती सुख का हो आगार
अब तो मेघ करो बौछार।
अनिल मिश्र प्रहरी।

3 Likes · 8 Comments · 576 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
Dr. Vaishali Verma
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
😢
😢
*प्रणय प्रभात*
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लफ्जों के सिवा।
लफ्जों के सिवा।
Taj Mohammad
*
*"पापा की लाडली"*
Shashi kala vyas
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
3645.💐 *पूर्णिका* 💐
3645.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
*गीता में केशव बतलाते, यह तथ्य नहीं आत्मा मरती (राधेश्यामी छ
*गीता में केशव बतलाते, यह तथ्य नहीं आत्मा मरती (राधेश्यामी छ
Ravi Prakash
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
Loading...