Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

बम बम भोले

बम बम भोले

भोले बाबा लगते प्यारे।
रुद्र भक्त यह कहते सारे।।
काँवड़ में वह पानी लाते।
श्रद्धा से शिव भक्त चढ़ाते।।

भोले बाबा हर्षित होते।
भक्त प्रेम में उर से खोते।।
धन यश विद्या खूब लुटाते।
भक्त सभी जग वैभव पाते।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 1 Comment · 390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
परखा बहुत गया मुझको
परखा बहुत गया मुझको
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
कवि रमेशराज
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वो ज़िद्दी था बहुत,
वो ज़िद्दी था बहुत,
पूर्वार्थ
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
Shakil Alam
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
Rj Anand Prajapati
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
Loading...