Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 2 min read

बन्धन

लघुकथा
◆◆◆◆◆
बंधन
=====
“आज फिर आप देर से आये हो ” उसका यह पूछना था कि सुमित सलोनी पर टूट पड़ा “तुम्हें क्या पता पैसा कमाने के लिये क्या क्या जतन करने पड़ते हैं , तुम तो पूरा दिन घर में ऐश ही करती हो ” ये बात आज की नहीं थी कुछ दिनों से सुमित का व्यवहार बदला बदला सा था । सलोनी तो अपने रिश्ते पर पूरा भरोसा किये बैठी थी पर जाने कहीं से काजल नाम की आरी उस पर चल चुकी थी। एक साल ही हुआ था विवाह को कि सुमित अपनी पुरानी प्रेमिका को भुला न पाया और वहीं जाने लगा था।
पहले तो सलोनी सास के ये कहने पर “समाज में क्या इज़्ज़त रह जायेगी” के कारण चुप रही। लेकिन बाद में पुरानी सब बातें और उसकी अनुपस्थिति में काजल का उसके घर आकर रहने जैसे दिल को आघात पहुंचाने वाले सभी रहस्यों का खुलासा होने लगा। जिससे दोनों में रोज रोज की कच कच होने लगी । विश्वास की डोर टूट जाने से सलोनी छटपटाने लगी ।
पिता ने बड़े धूमधाम से शादी की थी। किन्तु विवाह जैसा पवित्र बन्धन अब उसे किसी फंदे से कम नहीं लग रहा था, वो तोड़ देना चाहती थी हर फरेबी बन्धन ! पर इतना आसान नहीं था ऐसा करना । ससुराल में सभी जानते थे सुमित के प्रेम प्रसंग को फिर भी सलोनी और उसके घरवालों से छिपाया गया । सुमित माता-पिता के दबाव के कारण और बेकार की दलील कि शादी के बाद सब ठीक हो जाता है के कारण एक लड़की की ज़िन्दगी तबाह करने को तैयार हो गया चूँकि वह जिस लड़की को पसंद करता था वो दूसरी बिरादरी की थी जो उसके घरवालों को कतई मंजूर नहीं थी ।
बेचारी सलोनी के सपने बेदर्दी से कुचले गये । उसने इस बंधन से आज़ादी को ही अपनी तकदीर बनाया । उसने एक अच्छे इंसान से पुनर्विवाह किया, आज अपने पति और दो बच्चों के साथ सुखी है । उसने सिद्ध किया कि कई बार माता पिता भी गलत फैसले लेकर औलाद को अज़ीब बन्धन में जकड़ देते हैं पर ज़िन्दगी सभी को दूसरा मौका दे ये जरुरी नहीं !

@डॉ. अनिता जैन “विपुला”

Language: Hindi
Tag: कहानी
1 Comment · 316 Views
You may also like:
झुकी नज़रों से महफिल में सदा दीदार करता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
धर्म के नाम पर अधर्म
Shekhar Chandra Mitra
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
Shiva Awasthi
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
✍️'रामराज्य'
'अशांत' शेखर
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लड़की भी तो इंसान है
gurudeenverma198
Power of Brain
Nishant prakhar
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है, मेरे...
Manisha Manjari
दिल बहलाएँ हम
Dr. Sunita Singh
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फरियाद
Anamika Singh
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
जन्माष्टमी को मिलकर (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
दुनिया
Rashmi Sanjay
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...