Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 2 min read

बन्धन

लघुकथा
◆◆◆◆◆
बंधन
=====
“आज फिर आप देर से आये हो ” उसका यह पूछना था कि सुमित सलोनी पर टूट पड़ा “तुम्हें क्या पता पैसा कमाने के लिये क्या क्या जतन करने पड़ते हैं , तुम तो पूरा दिन घर में ऐश ही करती हो ” ये बात आज की नहीं थी कुछ दिनों से सुमित का व्यवहार बदला बदला सा था । सलोनी तो अपने रिश्ते पर पूरा भरोसा किये बैठी थी पर जाने कहीं से काजल नाम की आरी उस पर चल चुकी थी। एक साल ही हुआ था विवाह को कि सुमित अपनी पुरानी प्रेमिका को भुला न पाया और वहीं जाने लगा था।
पहले तो सलोनी सास के ये कहने पर “समाज में क्या इज़्ज़त रह जायेगी” के कारण चुप रही। लेकिन बाद में पुरानी सब बातें और उसकी अनुपस्थिति में काजल का उसके घर आकर रहने जैसे दिल को आघात पहुंचाने वाले सभी रहस्यों का खुलासा होने लगा। जिससे दोनों में रोज रोज की कच कच होने लगी । विश्वास की डोर टूट जाने से सलोनी छटपटाने लगी ।
पिता ने बड़े धूमधाम से शादी की थी। किन्तु विवाह जैसा पवित्र बन्धन अब उसे किसी फंदे से कम नहीं लग रहा था, वो तोड़ देना चाहती थी हर फरेबी बन्धन ! पर इतना आसान नहीं था ऐसा करना । ससुराल में सभी जानते थे सुमित के प्रेम प्रसंग को फिर भी सलोनी और उसके घरवालों से छिपाया गया । सुमित माता-पिता के दबाव के कारण और बेकार की दलील कि शादी के बाद सब ठीक हो जाता है के कारण एक लड़की की ज़िन्दगी तबाह करने को तैयार हो गया चूँकि वह जिस लड़की को पसंद करता था वो दूसरी बिरादरी की थी जो उसके घरवालों को कतई मंजूर नहीं थी ।
बेचारी सलोनी के सपने बेदर्दी से कुचले गये । उसने इस बंधन से आज़ादी को ही अपनी तकदीर बनाया । उसने एक अच्छे इंसान से पुनर्विवाह किया, आज अपने पति और दो बच्चों के साथ सुखी है । उसने सिद्ध किया कि कई बार माता पिता भी गलत फैसले लेकर औलाद को अज़ीब बन्धन में जकड़ देते हैं पर ज़िन्दगी सभी को दूसरा मौका दे ये जरुरी नहीं !

@डॉ. अनिता जैन “विपुला”

Language: Hindi
1 Comment · 386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3244.*पूर्णिका*
3244.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तोता और इंसान
तोता और इंसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
Shyam Sundar Subramanian
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
Tajposhi ki rasam  ho rhi hai
Tajposhi ki rasam ho rhi hai
Sakshi Tripathi
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
■ ढीठ कहीं के ..
■ ढीठ कहीं के ..
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
जीने का सलीका
जीने का सलीका
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
Kumar lalit
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
Loading...