Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2018 · 1 min read

#बरवै छंद

बरवै छंद की परिभाषा और उदाहरण

परिभाषा-बरवै एक अर्धसममात्रिक छंद है;इसमें चार चरण होते हैं,इसके पहले और तीसरे चरण में बारह-बारह मात्राएँ एवं दूसरे और चौथे चरण में सात-सात मात्राएँ होती हैं।इसके दूसरे और चौथे चरण के अंत में जगण(121)या तगण(221) आकर छंद को सुरीला बना देता है।

बरवै छंद का उदाहरण-

काम कष्ट में आता,सच्चा मित्र।
आँखें मोहित करता,अच्छा चित्र।।

सुनके संगीत मधुर,बनो निरोग।
सौंदर्य बढ़ाए वय,करो प्रयोग।।

बोलो शब्द तोलकर,बनो सुजान।
वापिस तीर न आए,छुटा कमान।।

आँख मिलेंगी सबसे,रख व्यवहार।
फूल सभी जन चाहें,एक न ख़ार।।

#आर.एस.’प्रीतम’

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 5162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
एक ख्वाहिश थी
एक ख्वाहिश थी
हिमांशु Kulshrestha
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"आतिशी" का "अनशन" हुआ कामयाब। घर तक पहुंचा भरपूर पानी।
*प्रणय प्रभात*
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ न जाता सन्त का,
कुछ न जाता सन्त का,
sushil sarna
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
7. तेरी याद
7. तेरी याद
Rajeev Dutta
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
सत्य कुमार प्रेमी
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
तअलीम से ग़ाफ़िल
तअलीम से ग़ाफ़िल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...