Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

बना चाँद का उड़न खटोला

बना चाँद का उड़न खटोला
मैं आसमान जाऊँगी,
खेल खेलुँगी लुक्का-छुप्पी
तारे तोड़ कर लाऊँगी।

परियों संग चांद से उड़कर
इक खास जगह मैं पहुँची,
चॉकलेटी दुनिया थी वहाँ
हर इमारतें थी ऊँची।
वहाँ जाके चॉकलेट जुड़े
सब राज जान जाऊँगी,
बना चाँद का उड़न खटोला
मैं आसमान जाऊँगी।

मार्शमैलो के लंबे पेड़
यम्मी चॉकलेटी बेर,
वहाँ पर आइसक्रीम के तो
लगे बड़े-बड़े से ढेर।
वहाँ पर बस जाने के लिए
हर बात मान जाऊँगी
बना चाँद का उड़न खटोला
मैं आसमान जाऊँगी।

तभी अचानक इक आहट से
झट नींद मेरी खुल गई,
सपना सच न होता देखकर
मैं बहुत ही उदास हुई।
सपने सब सच होंगे मेरे,
मैं अगर ठान जाऊँगी,
बना चाँद का उड़न खटोला
मैं आसमान जाऊँगी।

बना चाँद का उड़न खटोला
मैं आसमान जाऊँगी,
खेल खेलुँगी लुक्का-छुप्पी
तारे तोड़ कर लाऊँगी।

वेधा सिंह
पांच वीं कक्षा

Language: Hindi
Tag: गीत
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
3035.*पूर्णिका*
3035.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
Shubham Pandey (S P)
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
सत्य कुमार प्रेमी
मित्रो नमस्कार!
मित्रो नमस्कार!
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
एक श्वान की व्यथा
एक श्वान की व्यथा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
TARAN VERMA
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
भीड से निकलने की
भीड से निकलने की
Harminder Kaur
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
#सुप्रभात
#सुप्रभात
*Author प्रणय प्रभात*
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...