Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2016 · 1 min read

बदल जायेगी तकदीर—– कविता

बदल जायेगी तकदीर

श्रम और आत्म विश्वास हैं ऐसे संकल्प

मंजिल पाने के लिये नहीं कोई और विकल्प

पौ फटने से पहले का घना अँधेरा

फिर लायेगा इक नया सवेरा

देखो निराशा मे आशा की तस्वीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर

बस दुख मे कभी भी ना घबराना

जीवन के संघर्षों से ना डर जाना

युवा शक्ति पुँज बनो तुम कर्मभूमी के वीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर

नयी सुबह लाने को सूरज को तपना पडता है

धरती कि प्यास बुझाने को बादल को फटना पडता है

मंजिल तक ले जाती है आशा की एक लकीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर्

कुन्दन बनता है सोना जब भट्टी मे तपाया जाता है

चमक दिखाता हीरा जब पत्थर से घिसाया जाता है

श्रममार्ग के पथिक बनो अवरोधों से जा टकराओ

मंजिल पर पहुँचोगे अवश्य बस रुको नहीं बढते जाओ

बदल जायेगी तकदीर

Language: Hindi
1 Comment · 1415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*नए रिश्ते नई कुछ मित्रता, दुनिया बसाएँगे (हिंदी गजल/गीतिका)*
*नए रिश्ते नई कुछ मित्रता, दुनिया बसाएँगे (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
मेरी अंतरात्मा..
मेरी अंतरात्मा..
Ms.Ankit Halke jha
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
शेर
शेर
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
✍️रवीश जी के लिए...
✍️रवीश जी के लिए...
'अशांत' शेखर
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
gurudeenverma198
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ संस्मरण /
■ संस्मरण / "अलविदा"
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
Rj Anand Prajapati
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
पूर्वार्थ
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
Loading...