Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बदल जायेगी तकदीर—– कविता

बदल जायेगी तकदीर

श्रम और आत्म विश्वास हैं ऐसे संकल्प

मंजिल पाने के लिये नहीं कोई और विकल्प

पौ फटने से पहले का घना अँधेरा

फिर लायेगा इक नया सवेरा

देखो निराशा मे आशा की तस्वीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर

बस दुख मे कभी भी ना घबराना

जीवन के संघर्षों से ना डर जाना

युवा शक्ति पुँज बनो तुम कर्मभूमी के वीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर

नयी सुबह लाने को सूरज को तपना पडता है

धरती कि प्यास बुझाने को बादल को फटना पडता है

मंजिल तक ले जाती है आशा की एक लकीर

तनिक धीर धरो राही बदल जायेगी तकदीर्

कुन्दन बनता है सोना जब भट्टी मे तपाया जाता है

चमक दिखाता हीरा जब पत्थर से घिसाया जाता है

श्रममार्ग के पथिक बनो अवरोधों से जा टकराओ

मंजिल पर पहुँचोगे अवश्य बस रुको नहीं बढते जाओ

बदल जायेगी तकदीर

1 Comment · 1139 Views
You may also like:
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
माँ की याद
Meenakshi Nagar
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
आओ तुम
sangeeta beniwal
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
Loading...