Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

बदल चुका क्या समय का लय?

ये बात कही और नही,
खास बहुत थे करीब तुम,
विश्वास नहीं था होगा क्या ?
ये समय का फेर-बदल ,
निकट जो था ?
दो गज़ दूरी पर,
क्या ना था अब दूर सजग था ?

चाह वही थी,राह वही थी,
अपनापन खोया है क्या ?
आँखों ने रोया,
समय चक्र ने जाल बुन रोका,
आँखों के समक्ष रखा धोखा,
छु ना सका, छु ना सका ,
बंधन मन का क्यो बांध है रखा ?

संग संग हसते ,
प्राणो में बसते थे,
बात क्या हुआ ?
कह भी ना सका,
समय ने मारा उसको भी और मुझको भी,
समझ ना सका दूरी की वजह,
क्या ना था तब ? क्या ना बचा अब?

बदल गया क्या ?
रूप तो वही था ,
अगल में तुम थे, बगल में मै था ,
मध्य हमारे बैठा कौन था ?
तुझमे क्या मै अब ?
या मुझमे मै ?
निकट होते हुए चुप था कौन ?
बदल चुका क्या समय का लय?

रचनाकार –
बुध्द प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

2 Likes · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
मौन
मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
Shweta Soni
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
VINOD CHAUHAN
हृदय द्वार (कविता)
हृदय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
कान्हा तेरी नगरी
कान्हा तेरी नगरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
Vishal babu (vishu)
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
आओ लौट चले
आओ लौट चले
Dr. Mahesh Kumawat
प्यार का गीत
प्यार का गीत
Neelam Sharma
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
Surinder blackpen
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
Loading...