Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 2 min read

बदल गया जमाना🌏🙅🌐

अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

उषा सवेरा करती अरुणिमा,
सुमन – सुगंधि वाता लाती।
दिनकर करों से अश्रू धरा की,
मिटाता मलिन धूमिल- दृष्टि ।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

धूप तमातम खिले परंतु
पराल की छत तले नमी होती,
बादल बरसने लगते तब भी,
नाली – गली न भरी होती।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

गठरी निंदा की, न बड़ी होती ,
होती ,हिताय ही अड़ी चोटी।
छलकते नयन दयापूर्ण गर,
सर्वस्व समर्पण कसौटी थी।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

हाटों में हाथ मिलते सभी के,
हाथों ने थामी जरूरत होती।
नुक्कड़ बैठे उकड़ू जन में,
परायापन की नहीं सृष्टि।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

हर घर में पकता मीठा – नमकीन
पर रिश्तों में मिलावट नहीं होती ।
पानी -पय ,अनमोल पेय कहाते,
इन पर, करदेय कहां लगती?
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

स्वच्छता – सेवा – सुरक्षा की,
कवच बनाते मिलकर खुद की।
वसन मलिन रह जाए, भाए,
पर मन- पंकिल नहीं व्यक्ति।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

विचार – अनेक , मति – नेक,
कलह नहीं , परामर्श देती।
हर हल संभव नहीं होने पर,
विकल्प संबल प्रदान करती।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

कहीं अलग राग,
अनुराग, विराग परन्तु!
सराग ही सदा प्रीति होती ।
जुड़कर बिछुड़न केवल मौत से,
सौत जिसकी लक्ष्यार्थ अभिव्यक्ति।
अब वो जमाना ढल गया जब,
बातों में मिसरी घुली होती।।

2 Likes · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
सूरज का ताप
सूरज का ताप
Namita Gupta
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
योग महा विज्ञान है
योग महा विज्ञान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
People will chase you in 3 conditions
People will chase you in 3 conditions
पूर्वार्थ
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
"मिर्च"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...