Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2016 · 1 min read

बदला नही बदल दो**

बदला लेने की ख़ुशी
दिल में एक बार तो उठी
अगले ही पल दिल के
कोने से छिपा नन्हा सा छोटा दिल
हिम्मत करके बोला
बदला लेने से तुझ में और
उसमे क्या फर्क रहा
माफ करता तो तू जीत जाता
बदल देता तू उसको तो
शहंशाह बन जाता…..

बदला नहीं बदल दो-जियो और जीने दो***

^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^

Language: Hindi
445 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
"प्यासा कुआँ"
Dr. Kishan tandon kranti
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
#लघुव्यंग्य-
#लघुव्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-247💐
💐प्रेम कौतुक-247💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
ख़ान इशरत परवेज़
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
Loading...