Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

बदलते रिश्ते

प्रेम व्रेम इश्क विश्क यारी वारी, सब शब्दों की अय्यारी है।
चांद सा मुखड़ा दिल का टुकड़ा, कवियों की मक्कारी है।।
संपूर्ण समर्पण कर जिसने भी, हम सबको है सृजित किया।
बड़े गर्व से लिखते कहते फिरते, कि मां कितनी बेचारी है।।

कमियां वमियां अवगुण ववगुन, ये सब महज बहाना है।
तन चमकाना मन बहलाना, जगत को खूब दिखाना है।।
मां ऐसी है मां वैसी है, कहां पता मां तो मां है वो जैसी है।
अपनी मां पर गर्व न करते, मां गंगा में खूब नहाना है।।

पत्नी वत्नी बीबी वीवी सब, क्या माता जी नहीं बनेंगी।
या भविष्य में कोई भी, “मां”औलादे उनको नहीं कहेंगी।।
तेरी मां यदि घर बाहर है, तो तुम “संजय” समझ लो भाई।
हां भविष्य में तेरी बीबी तेरे संग अनाथाश्रम में साथ रहेंगी।।

जय सियाराम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव विनाशक,
शिव विनाशक,
shambhavi Mishra
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
........,
........,
शेखर सिंह
Love's Test
Love's Test
Vedha Singh
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
इक नेता दूल्हे का फूफा,
इक नेता दूल्हे का फूफा,
*Author प्रणय प्रभात*
2488.पूर्णिका
2488.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
Loading...