Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

बदनाम गलियों में।

बदनाम गलियों में हमनें शरीफों के चेहरे देखे हैं।
दिन के उजालों में जो शराफत की चादर ओढ़े रहते हैं।।1।।

काली रात के जैसा उनका जहन भी काला है।
अदीबों की महफिल में जो बातें मज़हब की करते है।।2।।

बनते फिरते है जो सच्चाई के बड़े ही अलंबरदार।
ना जानें वो जुबां से दिन रात कितने ही झूठ बोलते हैं।।3।।

अब क्या बताए ताज तुमको बड़े घरों का अदबो लिहाज़।
ये दौलत वाले किसी की भी यूं इज़्जत ना करते हैं।।4।।

तुम गरीब मासूम हो इनके बातों के जाल में ना फंसना।
ये इज़्ज़त वाले जिस्म फरोशी की तिज़ारत भी करते हैं।।5।।

लाख कर लो महफिले दिल खुश रखने के लिए।
नफ्स के गंदे बस कुछ पल ही सुकून के जीते हैं।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 1 Comment · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
आर.एस. 'प्रीतम'
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
VINOD CHAUHAN
मन
मन
Happy sunshine Soni
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
जाति है कि जाती नहीं
जाति है कि जाती नहीं
Shekhar Chandra Mitra
2934.*पूर्णिका*
2934.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
ग़ज़ल - रहते हो
ग़ज़ल - रहते हो
Mahendra Narayan
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
पूर्वार्थ
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
Loading...