Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2016 · 1 min read

बता रहा है मिरे ऐब को हुनर मेरा

रिवाज देश का मेरे ज़रा निराला है
ज़मीर बेचने वालों के घर उजाला है

तमाम मुश्किलों से उसने ही निकाला है
मिरा ख़ुदा मिरा ख्याल रखने वाला है

बता रहा है मिरे ऐब को हुनर मेरा
सुना है मुझसे उसे काम पड़ने वाला है

मैं खो गया था कहीं बेबसी के जंगल मन में
तुम्हारा प्यार था जिसने मुझे संभाला है

उदासियों में तलाशी है ज़िंदगी मैंने
हरेक ग़म पे ख़ुशी का लिबास डाला है
नज़ीर नज़र

254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
gurudeenverma198
हर लम्हा
हर लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
अब भी कहता हूँ
अब भी कहता हूँ
Dr. Kishan tandon kranti
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
Dushyant Kumar
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
Taj Mohammad
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*Author प्रणय प्रभात*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
Loading...