Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

*बताओं जरा (मुक्तक)*

बताओं जरा (मुक्तक)

बताओ जरा प्यार रहता कहाँ है?
लिखा दो पता प्यार रहता जहाँ है।
जरूरी बहुत है समझना उसे बस।
दिखा दो शहर प्यार रहता जहाँ है।
चलेंगे अकेले डगर इक पकड कर।
अटल भाव मन से हमेशा संभल कर।
निगाहें चलेंगी इधर से उधर तक।
बढ़ाते रहेंगे कदम तेज चल कर।
न डरना डराना किसी को यहाँ है।
हृदय खोल कर नित्य बढ़ना जहाँ है।
न रुकना कभी भी सतत खोज जारी।
निरन्तर गगन तक मगन प्रिय जहाँ है।
उदासीन मुखड़ा कभी तो खिलेगा।
जिसे चाहता दिल कभी तो मिलेगा।
निराशा सदा मात खाए फिसल कर।
सफ़ल प्यार होगा सफल मन रहेगा।
बताओ जरा प्यार रहता कहा है
लिखा दो पता प्यार रहता कहा है
ऋतुराज वर्मा
प्रबंधक
सरस्वती प्राथमिक शिशु मन्दिर बहरिया प्रयागराज
मो.8953057283

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे तारे पसंद हैं
मुझे तारे पसंद हैं
ruby kumari
चिंगारी के गर्भ में,
चिंगारी के गर्भ में,
sushil sarna
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
Ravi Prakash
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
Anis Shah
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
05/05/2024
05/05/2024
Satyaveer vaishnav
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
माँ
माँ
Harminder Kaur
वेला
वेला
Sangeeta Beniwal
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30  न
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30 न
Shashi kala vyas
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य ही शिव
सत्य ही शिव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...