Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

* बताएं किस तरह तुमको *

** मुक्तक **
~~
किया महसूस दिल से है,
बताएं किस तरह तुमको।
नमी आंखों की ठहरी सी,
दिखाएं किस तरह तुमको।
हसीं मुखड़े ये मुस्काते,
हुए हमने बहुत देखे।
नशे में चूर आंखें हैं,
जगाएं किस तरह तुमको।
~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०९/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
माना के वो वहम था,
माना के वो वहम था,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
शिक्षक (कुंडलिया )
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
जानते हैं जो सबके बारें में
जानते हैं जो सबके बारें में
Dr fauzia Naseem shad
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
The_dk_poetry
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
#हिरोशिमा_दिवस_आज
#हिरोशिमा_दिवस_आज
*Author प्रणय प्रभात*
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
जज्बात
जज्बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
Loading...