Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

* बढ़ेंगे हर कदम *

** मुक्तक **
~~
यही आधार है सुखमय भरोसा तोड़ मत देना।
दिया करना हमेशा साथ राहें मोड़ मत देना।
जरूरी है हमें बनना सहारा एक दूजे का।
मिलेगी मंजिले हर बार आशा छोड़ मत देना।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
बढ़ेंगे हर कदम आगे सभी के साथ जीवन में।
मिलेंगे लक्ष्य जीवन में गहन विश्वास है मन में।
निराशा के सघन घन भी कभी छाने नहीं देना।
खिलेंगे फूल खुशियों के महकते खूब आंगन में।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १८/०४/२०२४

1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
3059.*पूर्णिका*
3059.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आक्रात्मकता" का विकृत रूप ही "उन्माद" कहलाता है। समझे श्रीम
*प्रणय प्रभात*
'निशात' बाग का सेव (लघुकथा)
'निशात' बाग का सेव (लघुकथा)
Indu Singh
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
परोपकार
परोपकार
ओंकार मिश्र
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...