Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

बड़े होते बच्चे

कविता__ बड़े होते बच्चे
घर से दूर शहर या विदेश,
पढ़ने या नौकरी पर जाते बच्चे
देख उन्हें खुश होती मां!
पूरा परिवार,
मनाए खुशियां,बांटे मिठाई
अंदर अंदर कुछ खोती मां!
पड़ौसी देते बधाई,
लगते अच्छे, मन भर देते
धीरे धीरे सामान संजोती मां!
उसकी पसंद में,
कुछ कम ना रह जाए
लडडू, मठरी खूब बनाती मां!
रात में याद आते ही,
ये भी रखती, वो भी रखती
उनमें प्यार, दुआएं भर देती मां!
जब भी बाहर जाते,
खुश हो, दही चीनी खिलाती
पर पर्दे में छुप छुप कर रोती मां!
__ मनु वाशिष्ठ कोटा जंक्शन राजस्थान

Language: Hindi
1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वादों की तरह
वादों की तरह
हिमांशु Kulshrestha
धरती सा धीरज रखो, सूरज जैसा तेज।
धरती सा धीरज रखो, सूरज जैसा तेज।
Suryakant Dwivedi
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
Hey ....!!
Hey ....!!
पूर्वार्थ
मुझको आँखों में बसाने वाले
मुझको आँखों में बसाने वाले
Rajender Kumar Miraaj
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
49....Ramal musaddas mahzuuf
49....Ramal musaddas mahzuuf
sushil yadav
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मशीनों ने इंसान को जन्म दिया है
मशीनों ने इंसान को जन्म दिया है
Bindesh kumar jha
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
Smriti Singh
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
Dr.VINEETH M.C
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#धवल_पक्ष
#धवल_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
Loading...