Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2023 · 1 min read

बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,

बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
पर सांसे अभी भी जग रही है,
परवाह इनकी भी होनी चाहिए,
कही सांसे परवाह करना छोड़ दे तो।

1 Like · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
kavita
kavita
Rambali Mishra
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
खुद को संभालो यारो
खुद को संभालो यारो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
दारू की महिमा अवधी गीत
दारू की महिमा अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसी से मत कहना
किसी से मत कहना
Dr.Pratibha Prakash
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*Author प्रणय प्रभात*
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
Loading...