Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब

बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
अब गिरना मुमकिन नहीं हैं,
जो भी होता हैं अच्छे के लिए होता हैं
अब दिल में बस यहीं यकीन हैं।

Jay-prakash dewangan

580 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आज का युवा कैसा हो?
आज का युवा कैसा हो?
Rachana
कोई शक्स किताब सा मिलता ।
कोई शक्स किताब सा मिलता ।
Ashwini sharma
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
Neelofar Khan
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पल- पल बदले जिंदगी,
पल- पल बदले जिंदगी,
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*बेचारे लेखक का सम्मान (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे लेखक का सम्मान (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
इंजी. संजय श्रीवास्तव
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
एक है ईश्वर
एक है ईश्वर
Dr fauzia Naseem shad
बेज़ार सफर (कविता)
बेज़ार सफर (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
उसकी अदा तो प्रेम पुजारी लगी मुझे।
उसकी अदा तो प्रेम पुजारी लगी मुझे।
Sachin Mishra
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
पूर्वार्थ
■ ताज़ा शेर ■
■ ताज़ा शेर ■
*प्रणय प्रभात*
Loading...