Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा

बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
शिकायत करने भेजो तो
फैसले सुनाकर आता है।।

Ruby kumari

1 Like · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"अजब-गजब मोहब्बतें"
Dr. Kishan tandon kranti
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
है श्रेष्ट रक्तदान
है श्रेष्ट रक्तदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
💐प्रेम कौतुक-483💐
💐प्रेम कौतुक-483💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
We Would Be Connected Actually
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
हर गम छुपा लेते है।
हर गम छुपा लेते है।
Taj Mohammad
फ़ासला दरमियान
फ़ासला दरमियान
Dr fauzia Naseem shad
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
2581.पूर्णिका
2581.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
'अशांत' शेखर
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
Loading...