Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी

बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
अपनी खुशमिज़ाजी को छोड़कर
शख़्त मिज़ाज का हो जाना।।

Ruby kumari

371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
चल सजना प्रेम की नगरी
चल सजना प्रेम की नगरी
Sunita jauhari
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
💐प्रेम कौतुक-253💐
💐प्रेम कौतुक-253💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसकी ग़मी में यूँ निहाँ सबका मलाल था,
उसकी ग़मी में यूँ निहाँ सबका मलाल था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
पढ़ना जरूर
पढ़ना जरूर
पूर्वार्थ
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारा दूर जाना भी
तुम्हारा दूर जाना भी
Dr fauzia Naseem shad
*चरण पादुका भरत उठाए (कुछ चौपाइयॉं)*
*चरण पादुका भरत उठाए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
Loading...