Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2022 · 1 min read

‘बजट’….

‘बजट’ दबा देता हैं आम लोंगो की आवाज़
कैसे जाएंगा कम आमदनी में जीवन..!
हर तरफ से वो करे हैं वार,
ऊपर से महंगाई की धुलाई…!
उसमें तकलीफ़ मध्यमवर्गीय
लोगो को होती हैं खास…!!
क्या… करे ऐसा होता हैं हर बार,
ऐसे ही निर्वाह करते रहते हैं तमाम,
ये…तो बजट हैं.. जो धीरे-धीरे करे हैं वार..!
कुछ भी करलो…
ऐ… पकडायेगा कैसे भी करके कान…!!

Language: Hindi
1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
Dr. Man Mohan Krishna
संगदिल
संगदिल
Aman Sinha
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
Ajay Kumar Vimal
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू  हुआ,
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वक्त की चोट
वक्त की चोट
Surinder blackpen
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
विलीन
विलीन
sushil sarna
तू बेखबर इतना भी ना हो
तू बेखबर इतना भी ना हो
gurudeenverma198
"मछली और भालू"
Dr. Kishan tandon kranti
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
सीख
सीख
Adha Deshwal
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
कवि रमेशराज
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
राज वीर शर्मा
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
Loading...