Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 1 min read

* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/ग

* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/गीतिका】*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
बच कर रहना थाली वाले, बैंगन-दुष्ट दलालों से
बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से
(2)
चुनकर जो तुमको लाए हैं, उनको भूल नहीं जाना
बच कर रहना तन के गोरे, लेकिन दिल के कालों से
(3)
जाना शबरी की कुटिया में, और बेर जूठे चखना
बच कर रहना मालपुओं के, भरे स्वर्ण के थालों से
(4)
पाँच साल में देखो चादर, कहीं न मैली हो जाए
बच कर रहना भ्रष्टों की, जेबों के मोटे मालों से
(5)
पाँच साल का समय मिला है, जनसेवा को करने का
बच कर रहना बहन-मित्र, बहनोई-भाई-सालों से
(6)
स्वर्ग समझकर मंत्री-पद को, कहीं भोगने मत लगना
बच कर रहना कामदेव के, तेज नुकीले भालों से
(7)
चाटुकारिता के चक्कर में, फँस मत जाना मंत्री जी
बच कर रहना बेपेंदी के, लोटों की सब चालों से
—————————————————
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

586 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक अध्याय नया
एक अध्याय नया
Priya princess panwar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■
■ "टेगासुर" के कज़न्स। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
"कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
*बल गीत (वादल )*
*बल गीत (वादल )*
Rituraj shivem verma
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
एक नयी शुरुआत !!
एक नयी शुरुआत !!
Rachana
जिसप्रकार
जिसप्रकार
Dr.Rashmi Mishra
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...