Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

बच्चे

बच्चे
“”””
हम छोटे-छोटे बच्चे हैं
हम मन के पूरे सच्चे हैं
नहीं अकल के कच्चे हैं।
खूब पढ़ेंगे हम खूब पढ़ेंगे
आगे बढ़ेंगे, बढ़ते ही रहेंगे
जग में अपना खूब नाम करेंगे।
हम अज्ञानता को दूर कर
शिक्षित समाज बनाएंगे
सारे दुखों को मिटा कर
हम सुखी संसार बसाएंगे
आज शत्रु हैं जो उनको भी
हम अपना मित्र बनाएंगे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ऐ पड़ोसी सोच
ऐ पड़ोसी सोच
Satish Srijan
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
"लड़कर जीना"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
अज्ञात के प्रति-1
अज्ञात के प्रति-1
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
■ दुर्भाग्य
■ दुर्भाग्य
*Author प्रणय प्रभात*
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
अध्यात्म का अभिसार
अध्यात्म का अभिसार
Dr.Pratibha Prakash
शुगर रहित मिष्ठान्न (हास्य कुंडलिया)
शुगर रहित मिष्ठान्न (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...