Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2021 · 2 min read

“बच्चे मन के सच्चे”

“बच्चे मन के सच्चे”

???

नौ साल पहले की बात है ।
एक गांव था,
उस गांव में नरेश नाम का एक बच्चा अपने मां के साथ रहता था। नरेश के पिता काम के सिलसिले में प्राय: बाहर रहते थे। एक दिन,
वह खेलते खेलते सड़क पर चला गया, और अचानक से एक पागल कुत्ता उसे परेशान करने लगा, बच्चा बहुत रोने लगा और इससे पहले की कुत्ता उसे काटता ,समीर की नजर उसपर पड़ी, उसने तुरंत लपककर उसे गोद में उठा लिया।
समीर उसके घर से थोड़ी दूर पर रहता था।
समीर उसे अपने घर ले गया, उसे चॉकलेट दिया और बहुत प्यार दुलार भी। फिर आवाज लगाने लगा की यह बच्चा किसका है,
तभी नरेश की मां रानी उस आदमी की आवाज सुनकर उसके घर पहुंची ।
रानी उस आदमी को देखकर चौंक गई , क्योंकि समीर अच्छा आदमी नहीं था, कई बार जेल जा चुका था, मारपीट और कुछ अन्य अपराध के मामले में।
बच्चे को लेकर रानी अपने घर लौट आई।
अब बच्चा हर दिन समीर से मिलने की बार बार जिद करने लगा था, क्योंकि समीर उसे बहुत अच्छा लगने लगा था।
बार बार बच्चे का समीर से मिलना रानी और नरेश के पिता को अच्छी नहीं लगी।
नरेश के पिता समझ गए की ये उसके अपने बच्चे से दूर रहने के कारण हो रहा है, नरेश उसके प्यार से वंचित होने के कारण दूसरे के घर जाना चाहता है।
अब नरेश के पिता बाहर जाना छोड़ दिए, और घर के पास ही अपना एक दुकान खोल दिए।
और अपने बच्चे के पास रहने लगे।
फिर बच्चा अपने पिता के पास रहने लगा, और समय बिताने लगा। अब वह समीर से मिलने की जिद कभी नही करता था।

कहानी से यही शिक्षा मिलती है कि बच्चों को जहां प्यार और स्नेह मिलेगा वो वहीं रहना पसंद करता है।
क्योंकि बच्चे मन के सच्चे होते हैं।
____________________________
..✍️प्रांजल
..कटिहार।

Language: Hindi
9 Likes · 4 Comments · 1736 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुस्कुराहटों के मूल्य
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
अरशद रसूल बदायूंनी
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
Shekhar Chandra Mitra
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थकान...!!
थकान...!!
Ravi Betulwala
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
.........,
.........,
शेखर सिंह
■ क़ायदे की बात...
■ क़ायदे की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
3 *शख्सियत*
3 *शख्सियत*
Dr Shweta sood
Loading...