Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

बचपन

बचपन
~~°~~°~~°
महलों में कहीं पल रहा बचपन,
किलकारियों से गूंज रहा है।
भूखा तन कहीं जूठे पत्तल पर,
बाल सुलभ मन तड़प रहा हैं।
सड़कों पर बीत रहा जो बचपन,
अंगारों सा क्यूँ दहक रहा है ।
होगी कब तक ऐसी विषमता,
अपना भारत पूछ रहा है।

बाल श्रमिक बनकर कोई क्यूँ ,
घर परिवार की क्षुधा मिटाता।
खिलौने संग कोई मस्ती करता,
हवेलियों में कैसे ठुमक रहा है।
कलम थामने की आयु में,
हाथ मांजता बर्तन कोई।
मन में बसते अरमाँ उनके,
धूं धूं कर कर क्यूँ धधक रहा है ।
होगी कब तक ऐसी विषमता,
अपना भारत पूछ रहा है।

देखो जिम्मेदारियों का बोझ उठाना,
सिखला दी भूख ने समय से पहले।
ईंटे गढ़कर, मखाना फोड़कर ,
पेट की आग बुझाता बचपन ।
वक़्त की स्याही से लिखी हुई किस्मत,
दर्द-ए-दिल लिए भटक रहा है।
होगी कब तक ऐसी विषमता,
अपना भारत पूछ रहा है।

संभ्रांत घरों के युवक को देखो,
हुनर और काबिलियत गुम हो रही अब ।
बाप के कंधों आश्रित होकर,
मयखानों में बहक रहा है।
और दीनों का सिसकता बचपन,
फुटपाथों पर समय गुजारे।
फर्ज लिए संतति जीवन का ,
पग पग पर क्यूँ वो ठिठक रहा है।
होगी कब तक ऐसी विषमता,
अपना भारत पूछ रहा है।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २५ /०९/२०२२
आश्विन, कृष्ण पक्ष ,अमावस्या ,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
Deepak Baweja
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
मनुष्य और प्रकृति
मनुष्य और प्रकृति
Sanjay ' शून्य'
यात्रा ब्लॉग
यात्रा ब्लॉग
Mukesh Kumar Rishi Verma
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तमन्ना है तू।
तमन्ना है तू।
Taj Mohammad
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
Ranjeet kumar patre
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...