Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2016 · 1 min read

बचपन

खेल में आज भी लगा है मन !
है अभी भी यही कही बचपन !
भूलते ही नहीं पुराने दिन !
है कही दिल में आज सूनापन !!

आलोक मित्तल उदित

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
444 Views
You may also like:
शायरी
Shyam Singh Lodhi (LR)
कृष्ण अर्जुन संवाद
Ravi Yadav
Music and Poetry
Shivkumar Bilagrami
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अपने
Shivam Pandey
✍️नये सभ्यता के प्रयोगशील मानसिकता का विकास
'अशांत' शेखर
💐💐तुम्हारे साथ की जरूरत है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का मुक्तक / काश....
*Author प्रणय प्रभात*
कोरोना महामारी
Irshad Aatif
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
सियासत की बातें
Dr. Sunita Singh
अपना राह तुम खुद बनाओ
Anamika Singh
लावा
Shekhar Chandra Mitra
विसर्जन
Saraswati Bajpai
आपकी कशिश
Surya Barman
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
तुम्हारा खयाल आया है।
Taj Mohammad
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़्वाब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
“आसमान सँ खसलहूँ आ खजूर पर अटकलहूँ”
DrLakshman Jha Parimal
गोवा यात्रा 4 - 7 फरवरी 2021
Ravi Prakash
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
क्रांतिकारी विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...