Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

*बचपन*

मधुर मधुर मुस्कान अधर पर, हर्षवान बचपन देखा।
संस्कारों के अभिनय में शुचि, मूर्तिमान बचपन देखा।
राग नहीं था द्वेष नहीं था, आत्म रम्य व्यवहार सुखद।
शुचित सौम्य निर्दोष भाव से, कान्तिमान बचपन देखा।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
370 Views
You may also like:
भारत के बीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
*गंगा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फोन
Kanchan Khanna
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
* सूर्य स्तुति *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खफा है जिन्दगी
Anamika Singh
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र
VINOD KUMAR CHAUHAN
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इससे बड़ा हादसा क्या
कवि दीपक बवेजा
कोटेशन ऑफ डॉ. सीमा
Dr.sima
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
खुदाई भरी पड़ी है।
Taj Mohammad
नया जमाना
Satish Srijan
गंगा
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
अकेला चलने का जिस शख्स को भी हौसला होगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
मुक्तक
Dr Archana Gupta
साये
shabina. Naaz
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
गीत
Nityanand Vajpayee
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*Author प्रणय प्रभात*
Writing Challenge- सपना (Dream)
Sahityapedia
नफ़रतें करके क्या हुआ हासिल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...