Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*बचपन*

मधुर मधुर मुस्कान अधर पर, हर्षवान बचपन देखा।
संस्कारों के अभिनय में शुचि, मूर्तिमान बचपन देखा।
राग नहीं था द्वेष नहीं था, आत्म रम्य व्यवहार सुखद।
शुचित सौम्य निर्दोष भाव से, कान्तिमान बचपन देखा।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

300 Views
You may also like:
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Saraswati Bajpai
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पिता
Shailendra Aseem
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...