Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

बचपन मेरा..!

बचपन मेरा निकल रहा,
जवानी की और चल रहा,
वो डर मुझे यूं खल रहा,
मैं डर रहा, मैं मर रहा,
हर पल यूं ही तड़प रहा,
ना दुख में कोई संग रहा,
ना जग में कुछ बच रहा,
वो मुझ पर यूंही हस रहा,
मन में वो मेरे फस रहा,
सूरज यूंही ढल रहा,
मैं जीवन में विफल रहा,
क्यूं ना वो सफल रहा,
अब न ही कोई फल रहा,
कर्म भी न संभाल रहा,
चैन डगमग सा हो रहा,
मैं ही अब सो रहा,
बस जीवन में वो फैल रहा,
अंधेरा यूं ही फैल रहा,
मैं लड़ रहा, पर गिर रहा,
मैं चल रहा, पर लचक रहा,
ना सड़क पता,ना मंजिल,
पर कोशिश यूं ही कर रहा,
मैं चल रहा..
मैं चल रहा,
बचपन मेरा निकल रहा,
जवानी की और चल रहा..!

1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
3434⚘ *पूर्णिका* ⚘
3434⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
कुदरत
कुदरत
manisha
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
नहीं जाती तेरी याद
नहीं जाती तेरी याद
gurudeenverma198
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
"क्रन्दन"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
"खाली हाथ"
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
प्यास
प्यास
sushil sarna
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
Loading...