Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है

बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है,
खुशियों से भरे बेफ़िक्री के दाने लगते है।

मोहब्बत में पड़े लोग मुझे दीवाने लगते है,
महबूब के अपने ख्वाब जो सजाने लगते है।

इंसान से उम्मीदें जहर का प्याला लगती है,
खुशियां भरी उड़ान अति मनमोहक लगती है।

खोए वक्त की यादें अमर कहानी लगती है,
संगीत की मिठास जीवन की मधुरता लगती है।

हास्य रंगों में रंगी हरकतें हंसी के बहाने लगते है,
दिल में सुख की बारिश चेहरे की मुस्कान लगती है।

– सुमन मीना (अदिति)
लेखिका एवं साहित्यकार

Language: Hindi
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
भारत का चाँद…
भारत का चाँद…
Anand Kumar
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बीमारी से सब बचें, हों सब लोग निरोग (कुंडलिया )
बीमारी से सब बचें, हों सब लोग निरोग (कुंडलिया )
Ravi Prakash
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
3149.*पूर्णिका*
3149.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहे-फदाली
बुंदेली दोहे-फदाली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.........?
.........?
शेखर सिंह
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
"" *ईश्वर* ""
सुनीलानंद महंत
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
माँ
माँ
संजय कुमार संजू
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
"सफ़े"
Dr. Kishan tandon kranti
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
बेटी शिक्षा
बेटी शिक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
काबिल बने जो गाँव में
काबिल बने जो गाँव में
VINOD CHAUHAN
शीर्षक - स्वप्न
शीर्षक - स्वप्न
Neeraj Agarwal
Loading...