Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

बघेली कविता

किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !
अपने खुद जीवन के साथे आँख मिचउली खेलन !!

पढ़न नहीं हम कबहू मन से आपन हाल बताई !
कक्का किक्की साथे मा ही कविता अहिमक गाई !!

दिआ जलाये लेहे पोथन्ना देहरउटा मा बइठी !
राजू लाला अउर विपिन के कान पकड़ी के अइठी !!

ग़लत होय जब जोड़ घटाना दइके एड़ुआ पेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !

गुट्का पाउच खूब खबाइन दोस्त परोसी हितुआ !
उहौ फलाने खर्च करय खुब जे थूक मा सानय सेतुआ !!

भिरुहाये बागय उ हमका दुपहर साँझ सकारे !
खेते मेड़े काम कराबय गरिआबय दउमारे !!

सुनत रहन हम बहुत दिना से एकदिन मुड़भर बेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

घरके पहिलउठी बेटबा हम रोउना खूब रोबाई !
महतारी के बात ना मानी दिनभर करी लड़ाई !!

सोबत परे हाथ गोड़ बाधिस मरतय मारिस डंडा !
सगलौ भूत बगारे भगिगे बनिगय अम्मा पंडा !!

दुसरे दिन हम गाड़ी बईठन भेजय लागन बेतन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

मौलिक Kavi Ashish Tiwari Jugnoo
09200573071 / 08871887126

Language: Hindi
Tag: कविता
5813 Views
You may also like:
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
तोड़ दे अब जंजीरें
Shekhar Chandra Mitra
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
हरि चंदन बन जाये मिट्टी
Dr. Sunita Singh
✍️मंजूर-ए-खुदा✍️
'अशांत' शेखर
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
राष्ट्रीय एकता दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
अब तो हालात है इस तरह की डर जाते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कहता नहीं मैं अच्छा हूँ
gurudeenverma198
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईर्ष्या
Saraswati Bajpai
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
बचपन की साईकिल
Buddha Prakash
मां
Ram Krishan Rastogi
दिवाली
Aditya Prakash
मन की बात 🥰
Ankita
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
कृष्ण पधारो आँगना
लक्ष्मी सिंह
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वसंत का संदेश
Anamika Singh
"मेरी दुआ"
Dr Meenu Poonia
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
मीठी-मीठी बातें
AMRESH KUMAR VERMA
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...