Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

बघेली कविता

किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !
अपने खुद जीवन के साथे आँख मिचउली खेलन !!

पढ़न नहीं हम कबहू मन से आपन हाल बताई !
कक्का किक्की साथे मा ही कविता अहिमक गाई !!

दिआ जलाये लेहे पोथन्ना देहरउटा मा बइठी !
राजू लाला अउर विपिन के कान पकड़ी के अइठी !!

ग़लत होय जब जोड़ घटाना दइके एड़ुआ पेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !

गुट्का पाउच खूब खबाइन दोस्त परोसी हितुआ !
उहौ फलाने खर्च करय खुब जे थूक मा सानय सेतुआ !!

भिरुहाये बागय उ हमका दुपहर साँझ सकारे !
खेते मेड़े काम कराबय गरिआबय दउमारे !!

सुनत रहन हम बहुत दिना से एकदिन मुड़भर बेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

घरके पहिलउठी बेटबा हम रोउना खूब रोबाई !
महतारी के बात ना मानी दिनभर करी लड़ाई !!

सोबत परे हाथ गोड़ बाधिस मरतय मारिस डंडा !
सगलौ भूत बगारे भगिगे बनिगय अम्मा पंडा !!

दुसरे दिन हम गाड़ी बईठन भेजय लागन बेतन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

मौलिक Kavi Ashish Tiwari Jugnoo
09200573071 / 08871887126

Language: Hindi
7484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कभी गिरने नहीं देती
कभी गिरने नहीं देती
shabina. Naaz
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
मेले
मेले
Punam Pande
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
लोकतंत्र
लोकतंत्र
Sandeep Pande
Can't relate......
Can't relate......
Sukoon
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
"भूल जाना ही बेहतर है"
Dr. Kishan tandon kranti
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
gurudeenverma198
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
विश्ववाद
विश्ववाद
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...