Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2024 · 1 min read

बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,

बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
उन्हें अपने ढंग से जीने में ही मजा आता है !!
@परिमल

1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जीवन -जीवन होता है
जीवन -जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
" दर्द "
Dr. Kishan tandon kranti
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
DrLakshman Jha Parimal
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
पतझड़ के दिन
पतझड़ के दिन
DESH RAJ
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
Loading...