Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस

बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस कॉन्फ्रेंस का विषय बनते हैं, तो साल भर पहले ही अंदर पहुंच जाता।

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
କୁଟୀର ଘର
କୁଟୀର ଘର
Otteri Selvakumar
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
Neelofar Khan
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
2900.*पूर्णिका*
2900.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो इश्क़ जो हो गया है मुझे,
चलो इश्क़ जो हो गया है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
आग और पानी 🔥🌳
आग और पानी 🔥🌳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
*जाना सबके भाग्य में, कहॉं अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*जाना सबके भाग्य में, कहॉं अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
Phool gufran
Loading...