Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

बंदिशें

बंदिशे (स्वैच्छिक )

बंदिशे काम न आयीं, जमाने की यारों,
काफिले प्यार के फिर , राहों में सजने ही लगे,
कमबख़त ईश्क उनका, इस कदर परवां चढ़ा,
भंवरे कलियों पर देखो कैसे मंडराने ही लगे|

साजिशे नाकाम तेरी मलिकाये हुस्न,
कुंवारे लौट फिर घर को जाने ही लगे|
तमन्ना ईश्क की है, तू जलवा दिखा तो सही,
मजनूं गुलाबों संग प्यार जताने ही लगे|
🥰🥰🥰🥰
डॉ कुमुद श्रीवास्तव वर्मा ‘कुमुदिनी’ लखनऊ

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चारु
चारु
NEW UPDATE
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
स्वदेशी
स्वदेशी
विजय कुमार अग्रवाल
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
जिसका हक है उसका हक़दार कहां मिलता है,
जिसका हक है उसका हक़दार कहां मिलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#एक_और_बरसी
#एक_और_बरसी
*प्रणय प्रभात*
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
2458.पूर्णिका
2458.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
पूर्वार्थ
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
Neeraj Agarwal
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
*आओ पौधा एक लगाऍं (बाल कविता)*
*आओ पौधा एक लगाऍं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
Dheerja Sharma
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
Loading...