Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2019 · 1 min read

फोन

फोन
——
मोबाइल याद रखने लगा है जब से नंबर
तब से कहां कोई नंबर याद है !
रखता था जो पूरे परिवार को जोड़े
वो टेलिफोन सेट इन दिनों न जाने कहां गायब है !
‘हैलो!’ सुनकर जब धड़क जाता था दिल
वो अहसास मैसेजों की भीड़ में गुम हुआ शायद है!
छुपकर कागज़ की पर्ची पर दिए जाते थे जब नंबर
अब तो सोशल मीडिया पर डेटिंग ऐप्स का हुआ राज़ है !
लाल-पीले-नीले-हरे सेटों का था अपना ही रुआब
अब तो बस आइफोन का ही दुनिया में फैला स्वैग है!
फोन महज़ एक ज़रिया है और हमेशा रहेगा
वरना बे-फोन तो दिल से दिल का कनैक्शन
सदा से ही लाजवाब है!
~Sugyata
Image Google
Copyright reserved

Language: Hindi
418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
किसी की सेवा या सहयोग
किसी की सेवा या सहयोग
*प्रणय प्रभात*
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्यार
प्यार
Anil chobisa
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
गीत नया गाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"अगर हो वक़्त अच्छा तो सभी अपने हुआ करते
आर.एस. 'प्रीतम'
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
"लेखनी"
Dr. Kishan tandon kranti
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
हमारे सोचने से
हमारे सोचने से
Dr fauzia Naseem shad
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
Awadhesh Singh
"द्रौपदी का चीरहरण"
Ekta chitrangini
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
Loading...