Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा

जहाँ तक फ़ेसबुक पर किसी पोस्ट की आम स्वीकार्यता की बात है तो इस ‘फिनोमिना’ की तुलना आप पॉपुलर सिनेमा और कला सिनेमा अथवा पॉपुलर साहित्य और दलित साहित्य से कर सकते हैं।

कला सिनेमा एवं दलित साहित्य क्रमशः दर्शक और पाठक पाने के मामले में काफ़ी पिछड़ जाते हैं।

स्पष्ट होकर कहें तो यह अजीब विडंबना है, त्रासदी ही है कि अक्सर पोस्ट की सीरत नहीं देखी जाती है, पोस्ट करने वाले की सूरत देखी जाती है।

बड़ा नाम वाला (बनिया) है तो उसका गुणवत्ताहीन उत्पाद भी, समान भी आसानी से बिक जाता है।

फेसबुक पर भी बड़े नाम वाले अथवा अच्छी सूरत वाली कमसिन महिला की पोस्ट like-comment पाने के मामले में बवाल काटती है, लोग उसमें समा जाने को बेचैन हो उठते हैं। लोग सहज ही ढल जाते हैं, न्योछावर हो जाती है उसपर। भेड़ियाधसान वाली स्थिति इस परिघटना को कह सकते हैं आप।

दुनिया पैकेजिंग एवं विज्ञापन (प्रस्तोता) से ही माल के अच्छा होने की गारंटी पा लेती है, खुद से पड़ताल करने की जहमत उठाने की जरूरत नहीं समझती!

Language: Hindi
Tag: लेख
147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
#प्रणय_गीत:-
#प्रणय_गीत:-
*Author प्रणय प्रभात*
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
सांप्रदायिक उन्माद
सांप्रदायिक उन्माद
Shekhar Chandra Mitra
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
सत्य कुमार प्रेमी
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
Ravi Prakash
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
देश अनेक
देश अनेक
Santosh Shrivastava
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
"नवाखानी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...