Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

फूल मोंगरा

फूल मोंगरा
तू स्वच्छ धवल ,शोभा आंगन की,
दर्द न जानें कोंई ।
हार बना लेता है तुझको
जस रावत की नोई ।।

पर प्राण प्यारी हो तुम
मस्त खिली हो आंगन में
कवि ह्रदय में खिली रहो
महक रहे दिल साजन में

माली आते,तोड़ ले जाते
हार बनाते हैं तुझको।
देते हैं बेच बीच बाजार
तड़फ होता है मुझको।।

तू निरीह बिन मुंह की
जस आटा की लोई।
हार बना लेता है तुझको
जस रावत की नोई।।

प्रेम सागर में तुम डुबी रही
शायद तेरा भी दिल होगा।
समझ पायेंगे धड़कन तेरा
शायद ऐसा कोई होगा।।

समझ न पाये माली भी
तेरी चाहत क्या है।
कवि विजय की धड़कन हैं
तेरी धड़कन की राहत क्या है।

स्वच्छ धवल है हृदय तेरा
जस धोबी की धोई
हार बना लेता है तुझको
जस रावत की नोई।।

लेकर महक स्वांसो में
हैं आनन्द दिल में भरते
फ़र्ज़ निभाने जीवन भर
हैं पापी क्यों डरते।।

दिल ❤️ में रख हाथ अपना
मुंह से है चुंबन करते
कुम्हला गई तनिक भी
डगर म फेंकते चलते।

होती है इच्छा दिल में मेरा
मैं भी चुंबन ले लूं
तेरे हृदय के धड़कन का
आधा हिस्सा ले लूं।।

पर जगह नहीं दिल पर मेरे
दिल पर मेरा धड़कन है
तू स्वच्छ धवल क्वारी है
मेरा विवाहित होना अड़चन है।।

लेकर सुगंध फेक दिया
गली राह पे दोंगरा
दर्द समझा कवि हृदय
नीरस पड़ी है फूल मोंगरा।।

यह कविता कवि भाव से लिखा गया है,

डां विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
2 Likes · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
"सुखद अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
नजरों  के वो पास  हैं, फिर भी दिल दूर ।
नजरों के वो पास हैं, फिर भी दिल दूर ।
sushil sarna
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
2763. *पूर्णिका*
2763. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़िलहाल देश को सबसे बड़ी ज़रुरत समर्थ और सशक्त विपक्ष की।
फ़िलहाल देश को सबसे बड़ी ज़रुरत समर्थ और सशक्त विपक्ष की।
*प्रणय प्रभात*
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...