Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

फूल खिले हैं डाली-डाली,

★★★★★★★★★★
फूल खिले हैं डाली-डाली,
सभी ओर फैली हरियाली।
प्रात काल की सूर्य किरण से,
धरती पर छाई उजियाली।
★★★★★★★★★★
रंग बिरंगे फूल खिले हैं,
लगते कितने प्यारे-प्यारे।
धरती से अंबर तक देखो,
खुश्बू बाँटे पवन सहारे।
बेला, चंपा, और चमेली,
महक लुटाती ये मतवाली।
फूल खिले हैं डाली-डाली….
★★★★★★★★★★
बाग-बाग में खिले पुष्प पर,
तितली झूमे नाचे गाए,
मधुर पराग कणों को पीकर,
भवरे उन संग गुनगुनाए।
खग-वृंद सभी चिहुक रहे हैं,
देख सूर्य की अद्भुत लाली।
फूल खिले हैं डाली-डाली……………
★★★★★★★★★★
स्वरचित
वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
इक रोज़ मैं सोया था,
इक रोज़ मैं सोया था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
सात जन्मों तक
सात जन्मों तक
Dr. Kishan tandon kranti
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
Ravi Prakash
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
आक्रोश तेरे प्रेम का
आक्रोश तेरे प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
प्रेम में कुछ भी असम्भव नहीं। बल्कि सबसे असम्भव तरीक़े से जि
प्रेम में कुछ भी असम्भव नहीं। बल्कि सबसे असम्भव तरीक़े से जि
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
#मिसाल-
#मिसाल-
*Author प्रणय प्रभात*
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
Loading...