Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा

फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
मोहब्बत को रास्ते में छोड़ना पड़ा
ऐसी नाव पर सवार हो गए थे हम
बीच रास्ते नाब को मोड़ना पड़ा !!

जिन किनारों की थी मंजिल अलग
नदियों के किनारो को मोड़ना पड़ा
जिनकी गिरफ्त में थे हजारों दिए
साथ हवाओ का हमें छोड़ना पड़ा !!

कीट रेशम से रेशम अलग की गई
रोशनी अंधेरों से मिल अंधी हुई
जिंदगी से जिंदगी जुदा हो गई
सब खुद के भरोसे छोड़ना पड़ा

आवाज को हमने मौंन कर दिया
अंतरमन साइलेंट जोन कर दिया
खुद को अकेले हमने रहने दिया
यह रिश्ता भी हमको तोड़ना पड़ा !!

जुगनू की शिकस्त में जमाना हुआ
रोशनी तो महज एक बहाना हुआ
मंजिल तो मुकम्मल ना हो सकी
रास्तों में ही रास्तों से दौड़ना पड़ा !!

✍️कवि दीपक सरल

2 Likes · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
2498.पूर्णिका
2498.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
धैर्य धरोगे मित्र यदि, सब कुछ होता जाय
धैर्य धरोगे मित्र यदि, सब कुछ होता जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
Ravi Betulwala
यादों की तुरपाई कर दें
यादों की तुरपाई कर दें
Shweta Soni
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
बंधन
बंधन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
उसको देखें
उसको देखें
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम जीवन धन गया।
प्रेम जीवन धन गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
Loading...