Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

*फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार* ( कुंडलिया )

फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार ( कुंडलिया )
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
फूलों पर भौंरे दिखे , करते हैं गुंजार
लगता उनका है भला ,मदमाता व्यवहार
मदमाता व्यवहार ,रसिक-जन को हैं भाते
देते हैं आनंद , मुग्ध करते जब गाते
कहते रवि कविराय ,झूलते ज्यों झूलों पर
आलिंगन में मस्त ,फिदा रहते फूलों पर
“”””””””””””””””””””””””””””””‘””””””””'”””””””””
गुंजार = औरों की गुनगुनाहट
फिदा = आसक्त
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
2122 :1222 : 122: 12 :: एक बार जो पहना …..
2122 :1222 : 122: 12 :: एक बार जो पहना …..
sushil yadav
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*प्रणय प्रभात*
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
तू
तू
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
Loading...