Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

फुटपाथ की ठंड

नवंबर की ये ठंडी ठुठरती हुई रातें
कैसे गुजारी होगी फुटपाथ के लोगों ने
बदन को अन्दर तक जमा देने वाली इन रातों में
कैसे जीवित रहता होगा फुटपाथ पर दुधमुंहा वो बच्चा
जो जन्मा है फुटपाथ पर
तेज चलती गाडियां ठंड को ओर बढ़ा देती है
तो सिहर जाते हैं लोग जो जीते हैं जीवन फुटपाथ का
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
Ashish shukla
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
बहुत अहमियत होती है लोगों की
बहुत अहमियत होती है लोगों की
शिव प्रताप लोधी
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल (सिर्फ़ मरते हैं)
ग़ज़ल (सिर्फ़ मरते हैं)
SURYA PRAKASH SHARMA
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
नमी आंखे....
नमी आंखे....
Naushaba Suriya
अब तलक तुमको
अब तलक तुमको
Dr fauzia Naseem shad
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
Anamika Tiwari 'annpurna '
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
Attraction
Attraction
Vedha Singh
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
Loading...