Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*

फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)
________________________
फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को
1)
पूरी हुई प्रतीक्षा स्वागत, धर्म-ध्वजा अब आई
जन्मभूमि के मंदिर में फिर, रामलला छवि पाई
युग बदला है चला रामरथ, मंजीरे बजवाने को
2)
अब रावण का किला ढहेगा, धू-धू महल जलेगा
सुंदरकांड लिखा जो सुंदर, घर-घर वही चलेगा
अब हनुमान जान निज ताकत, चले सिया छुड़वाने को
3)
रामराज्य में राम लखन सिय, हनुमत का दरबार है
बजी रामधुन त्रेता का शुभ, वंदन बारंबार है
राजतिलक तैयार अयोध्या, रामराज्य गुण गाने को
फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को
_____________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सोचो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
कवि दीपक बवेजा
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
*माँ : दस दोहे*
*माँ : दस दोहे*
Ravi Prakash
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
Loading...