Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

फिर भी सूरज निकलता है

हल्का सा धुंध
धरती की छाती पर सवार
सूरज को रोकने की पूरी तैयारी
फिर भी सूरज निकलता है ,
गोल ,लाल ,सुंदर ,दिव्य
धुंध को चिरता हुआ
देता है अपना प्रकाश
कर देता है निहाल सबको
अपनी अनवरत ऊर्जा से ,
पता नहीं चलता है रात कब गुजरी
इसका एहसास भी सूरज कराता है
और दौड़ने लगता है
युवाओं में क्रान्ति का गर्म खून
और शुरू हो जाता है एक अनवरत संघर्ष
मूल्यों के लिए ,जिनका आज ह्रास हो रहा है
और यह संघर्ष जारी रहेगा
चिंगारियां मिलकर आग बनेंगी
राख कर देंगी उन मंसूबों को
जो कर रहे मूल्यों के साथ छेड़ छाड़
जीने के अधिकार के साथ
इसे याद रखना
वर्तमान के महल का सपना
भविष्य गढ़ेगा
इतिहास करेगा नींव प्रदान
तब पहिया आगे बढेगा .

===================
===================

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इक बार वही फिर बारिश हो
इक बार वही फिर बारिश हो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
सच का सच
सच का सच
डॉ० रोहित कौशिक
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Adha's quote
Adha's quote
Adha Deshwal
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
Shweta Soni
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
*मर्यादा*
*मर्यादा*
Harminder Kaur
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
Loading...