Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 2 min read

!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!

जब थाम के मेरी ऊँगली को, तू धीरे से मुस्काया था,
जब लेकर तुझको गोद में मैं, सबसे पहले इतराया था,

तब मैं जाकर पहली बार, तात तेरा कहलाया था,

जब तेरे अक्स नें मुझको मेरे अक्स से यूँ मिलवाया था
तब पहली बार को सच में मैं, तात तेरा कहलाया था

जब तुझको ख़ुद की पीठ बिठाकर, आँगन में खूब घुमाया था,
तब सारे परिवार में मैं, तात तेरा कहलाया था,

जब तेरी ऊँगली थाम के मैंने, चलना तुझे सिखाया था
तब ख़ुद से ख़ुद को मैंने, तात तेरा कहलाया था

तुझको याद नहीं होगा जब, लिखना तुझे सिखाया था
तब शायद पहली बार कहीं मैं तात तेरा बन पाया था

अब तू थोड़ा बड़ा हो गया, चलना ख़ुद से आता है
छोड़ के मेरी ऊँगली को, तू ख़ुद स्कूल को जाता है

ख़ुद से सोच समझ कर तू, अब मुश्किलों को दूर भगाता है
ख़ुद से जीना सीख सीख कर, मंज़िल पर कदम बढ़ाता है

अब नया जोश है, नए हैं सपनें और उम्मीदें ढेरों सी हैं
मुझको भी तेरे सपनों को पूरा करना जिद सी है

जब तेरी सारी खुशियों से तेरा दामन भर पाऊँगा
तब जाकर शायद ख़ुद को मैं तात तेरा कह पाऊँगा

तेरी हर कठिन ड़गर पर मैं, जब फूलों सा बिछ जाऊँगा
तब ख़ुद से ख़ुद को मैं कहीं, तात तेरा कह पाऊँगा

तेरे सपनों के खातिर मैं इस जग से भी लड़ जाऊँगा
तेरी हर एक ख़ुशी को मैं अपना हर लक्ष्य बनाऊंगा

तुझको भी होगा फक्र कभी, जब ये जज़्बात बताऊँगा
उस खुदा की महफिल में भी तब, मैं तात तेरा कहलाऊँगा ।

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पल
पल
Sangeeta Beniwal
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
कल तलक
कल तलक
Santosh Shrivastava
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
कौन याद दिलाएगा शक्ति
कौन याद दिलाएगा शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
"विषधर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
#वाल्मीकि_जयंती
#वाल्मीकि_जयंती
*Author प्रणय प्रभात*
चिढ़ है उन्हें
चिढ़ है उन्हें
Shekhar Chandra Mitra
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
Ravi Betulwala
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
Loading...