Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

फितरत

अंतर्मन की गुफा में बैठा,
एक अजूबा “फितरत ”
नतमस्तक जिसके आगे सभी,
अदृश्य विद्यमान शक्तिशाली है फितरत।।

रंग बिरंगा खेल दिखाता ,
पूर्ण करने बेहिसाब हसरत।
कभी विवशता-कभी सफलता,
कभी-चतुराई सिखाता फितरत।।

सरपट दौड़े भागे ज़िंदगी भर,
महत्वकांक्षी बने कुचले कुदरत ।
दुनिया बदलने को आतुर सभी,
पर बदलते नही अपनी फितरत ।।

होड़ मची है चहुँ दिशा में,
दूजे को बदलने करते कसरत ।
झाँकते ताकते व्यर्थ ही बाहर ,
पर देखते नहीं खुद की फितरत ||

राम राज्य की कल्पना करते,
गुज़र गई है मुद्दत ।
ज्ञानी सभी है औरो की खातिर,
पर बदलते नही खुद की फितरत ।।

ठहरो तनिक झाॅंको अंदर ,
विराम दो बचकानी करतब।
फितरत मूल अंतरात्मा की,
चमक जागृति होगी तब ।।

सबकी होती अलग-अलग फितरत ,
पर एक सूत्र में जो बाॅंधे कुदरत ।
करुणा प्रेम दया का भाव दिल में,
हर इंसान के मन में हो यही फितरत।।
————
जय हिंद जय जवान जय किसान
रचनाकार कविता वर्मा
भाटापारा
बलोदाबाजार छत्तीसगढ़

7 Likes · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अध्याय 12*
*अध्याय 12*
Ravi Prakash
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
*Author प्रणय प्रभात*
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
जब आसमान पर बादल हों,
जब आसमान पर बादल हों,
Shweta Soni
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
Neeraj Agarwal
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
तुम कहो कोई प्रेम कविता
तुम कहो कोई प्रेम कविता
Surinder blackpen
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
भोर समय में
भोर समय में
surenderpal vaidya
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
Loading...