Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

फितरत,,,

फितरत,,, कवि

फितरत हमारे प्यार की है आसमान सी।।
इज्जत जुड़ी है जिससे सदा खान दान की।।
कहके कभी बदलते नहीं हम जुबान से।
रिश्ता रहा अटूट सदा आन-बान से।।
सदियों से राह चल रहे मानस महान की।
इज्जत जुड़ी हुई है जिससे खानदान की।।
कठिनाइयों को देख के बदलें नहीं रस्ते।
इतने तो हम कभी न रहे दोस्तो
सस्ते।।
आ जाए जब भी बात कोई कुछ भी शान की।
फितरत हमारे प्यार की है आसमान सी।।
हम जिसको चाहते हैं उसे दिल से चाहते।
फिर उसको हमेशा के लिए अपना मानते।
फितरत यही है आज भी अपनी उड़ान की।
इज्जत बड़ी है अब भी हमें खानदान की।।

मर जाएंगे मिट जाएंगे पर साथ रहेंगे।
अंतिम क्षणों में हाथ में पर हाथ रहेंगे।।

फितरत यही रही है सदा खानदान
की।
फितरत हमारे प्यार की है आसमान सी।।

बृंदावन राय सरल सागर एमपी मोबाइल नंबर 7869218525

Language: Hindi
1 Like · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
DR arun कुमार shastri
DR arun कुमार shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
💐प्रेम कौतुक-252💐
💐प्रेम कौतुक-252💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
2637.पूर्णिका
2637.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी का भी असली किरदार या व्यवहार समझना हो तो ख़ुद को या किसी
किसी का भी असली किरदार या व्यवहार समझना हो तो ख़ुद को या किसी
*Author प्रणय प्रभात*
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
Phool gufran
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
"जल"
Dr. Kishan tandon kranti
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
Loading...