Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

रही अच्छी बुरी दोनों,यहाँ इंसान की फितरत।
मगर दम तोड़ देती है,हृदय में पल रही हसरत।

मुनाफा देखकर बनते,कई रिश्तें जमाने में,
अजब अंदाज़ लोगों का, जहाँ मतलब वहीं शिरकत।

यहाँ इंसानियत बिकने,लगी है चंद पैसों में,
पड़ा है पूण्य कोने में,लगे अब पाप में लज्जत।

सदा कमज़ोर पर ताकत,मनुज क्यों आजमाता है,
तमाशा है बुलंदी भी,बड़ी ओछी करें हरकत।

न जाने क्यों मुकद्दर से,तुझे इतनी शिकायत है,
करम जैसा करेगा जो,उसे वैसी मिले बरकत।

जरूरत ही कराती है,सदा सजदा झुकाकर सर,
नहीं तो कौन करता है,यहाँ पर बेवजह कसरत।

मुकम्मल कामयाबी हो, रज़ा रब की रहे जिनपर,
खुशी होती उसी घर में,खुदा की हो जहाँ रहमत।

जगा पुरुषार्थ को मानव,हृदय में जोश को भर लो,
विजेता वो बनेगा जो,कभी करता नहीं गफलत।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

9 Likes · 5 Comments · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-346💐
💐प्रेम कौतुक-346💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
"पल-पल है विराट"
Dr. Kishan tandon kranti
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...