Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

फितरत वो दोस्ती की कहाँ

फितरत वो दोस्ती की कहाँ
उसमें अब रही?
शोहरत मिली है जबसे,
वो मगरूर हो गया।

रश्मि लहर

2 Comments · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
सुखिया मर गया सुख से
सुखिया मर गया सुख से
Shekhar Chandra Mitra
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
*श्रम से पीछे कब रही, नारी महिमावान (कुंडलिया)*
*श्रम से पीछे कब रही, नारी महिमावान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध भक्त सुदत्त
बुद्ध भक्त सुदत्त
Buddha Prakash
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
महेश चन्द्र त्रिपाठी
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
2405.पूर्णिका
2405.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...